Image

रहिमन धागा प्रेम को, मत तोड़ो चटकाय
टूटे से फिर न मिले , मिले गांठ पड़ जाये |

Thoughts, emotions, expression!

Advertisements